Independent, Leadership qualities, Manifestation of the material, Newness, new beginnings, something unique, Confidence, Assertive, direct in their actions, Visionary, originality , visionary mindset, Motivation, Unity, Number 1, Egotistical,

अंक ज्योतिष में संख्या १- Ank Jyotish of 1

किसी भी महीने की 1, 10, 19 और 28 तारीख को जन्म लेने वाले लोगों को अंक ज्योतिष में नंबर 1 लोग कहा जाता है, जिन पर सूर्य ग्रह का शासन होता है। सिंह राशि पर भी सूर्य का शासन है, यद्यपि अप्रत्यक्ष रूप से। सूर्य की तरह, नंबर 1 व्यक्ति आमतौर पर आगे बढ़कर नेतृत्व करना पसंद करते हैं, और अधिकार वाले पदों पर दूसरों से बेहतर प्रदर्शन करते हैं।

 

अंक ज्योतिष के अनुसार प्रत्येक संख्या का एक अर्थ अपने आप में छिपा होता है। और किसी अंक विशेष के प्रभाव में जन्म लेने से उस अंक के गुण व्यक्ति में स्थानांतरित हो जाते हैं। अंक ज्योतिष को कभी-कभी ज्योतिष का सबसे सरल रूप कहा जाता है क्योंकि इसमें संख्याओं के आधार पर जातक की भविष्य की भविष्यवाणियां शामिल होती हैं। और ये संख्याएँ क्या हैं?

 

अंक ज्योतिष में नंबर 1 स्वयं को दर्शाता है। और इस प्रकार व्यक्ति को थोड़ा स्वार्थी भी बना सकता है। सकारात्मक पक्ष पर स्वयं में जातक की परिपक्वता और आत्म-जागरूकता का दावा करता है। इसलिए 1 के साथ जन्म लेने वाले लोग अपनी भाग्यशाली संख्या के रूप में आमतौर पर जीवन में अधिक परिपक्व निर्णय लेने में सक्षम होते हैं। आत्मनिर्भरता और आत्म-प्रशंसा इन जातकों के अन्य दो गुण हैं, जो उन्हें सकारात्मक विकास करने में मदद करते हैं। इन जातकों की परिपक्वता लंबे समय तक चलने वाले प्रेम बंधन को भी सुनिश्चित करती है क्योंकि लोग वास्तव में इस बात पर ध्यान देते हैं कि वे बाहर क्या हैं, न कि वे अंदर हैं।

 

अंक ज्योतिष के अनुसार अंक 1 में जन्म लेने वाला जातक जीवन के प्रति बहुत धैर्यवान होता है। वह एक समय में एक कदम उठाने में विश्वास करता है और चीजों को जल्दी नहीं करता है। ऐसा करने से जातक बेहतर चुनाव करने में सक्षम होता है और जीवन में छोटी-छोटी चीजों को संजोना सीखता है। साथ ही जीवन में शिशु कदम उठाना उन्हें अपनी प्रतिस्पर्धी इच्छाओं को पूरा करने के लिए बेहतर तरीके से तैयार करता है। वे खुद को जो समय देते हैं, वह उन्हें नए विचारों पर काम करने की अनुमति देता है, जो उन्हें वह पहचान दिलाते हैं जिसके वे हकदार हैं।

 

नंबर 1 में जन्म लेने वाले लोगों में कुछ नकारात्मक लक्षण आपकी कुछ अनुचित इच्छाओं को पूरा करने पर रोक लगाते हैं। ऐसा करने से आपका समय बचेगा। आपको यह महसूस करने की आवश्यकता है कि आपको कब रुकने की आवश्यकता है, बजाय इसके कि आप अपने आप को किसी चीज़ में केवल इसलिए धकेल दें क्योंकि आपने इसे शुरू किया था। साथ ही जब लोगों की बात आती है, तो आपको अभिमानी व्यवहार को छोड़ने और दूसरों के साथ अधिक सहयोग करने का प्रयास करने की आवश्यकता होती है।

अंक ज्योतिष नंबर 1 का करियर

अंक ज्योतिष में करियर के चुनाव के लिए एक बहुत ही आसान तरीका बताया गया है। इस तरीके को आजमाएं तो आप खुद ही अपने लिए सही करियर का चुनाव कर पाएंगे और अपने क्षेत्र में कामयाब व्यक्ति कहलाएंगे।

 
अंक ज्योतिष में कहा गया है कि हर व्यक्त का एक मूलांक होता है। इस अंक को ज्ञात करके व्यक्ति अपने लिए सही करियर का चुनाव करे तो कामयाबी उसके कदम चूमती हैं क्योंकि मूलांक जिस क्षेत्र में करियर का संकेत देता है उस क्षेत्र में सफलता के लिए जो गुण चाहिए वह व्यक्ति में मौजूद होता है। जैसे किसी व्यक्ति का मूलांक 1 होता है तो उनमें नेतृत्व की योग्यता होती है।

मूलांक 1 वाले जातक का करियर बेहतर होता है, ये हायर एजुकेशन में सफल होते हैं. एक्टिव और एनर्जेटिक होने के कारण ये लोग अपनी पढ़ाई में मेहनत करके सफलता जरूर पाते हैं. इनकी आर्थिक स्थिति बेहतर होती है.

 

ऐसे व्यक्ति राजनीति एवं प्रबंधन के क्षेत्र में कामयाब होते हैं। वकालत के अलावा जिन क्षेत्रों में अधिक जोश और उत्साह की जरूरत होती है जैसे सेना, पुलिस के क्षेत्र में इन्हें कामयाबी मिलती है। फोटोग्राफी, ग्राफिक डिजाईनर, नाविक, नौसेना, ठेकेदारी, व्यवसाय एवं शिल्पकला के क्षेत्र में भी यह कामयाब होते हैं।

मूलांक नंबर ज्ञात करने का तरीका

मूलांक जन्मतिथि के आधार पर ही निकाला जाता है। जिस व्यक्ति का जन्म 1 से लेकर 9 तारीख तक हुआ होता है, उनका मूलांक वही तिथि होती है। यानी कि यदि आपका जन्म किसी महीने की 2 तारीख को हुआ है तो आपका मूलांक 2 होगा। यदि आपका जन्म किसी महीने की 7 तारीख को हुआ हो तो आपका मूलांक 7 होगा।

 

1 और 9 तारीख के अलावा बाकि लोगों का मूलांक उनकी जन्म तिथि की संख्याओं को जोड़कर निकालते हैं। उदाहरण स्वरूप, यदि आपका जन्म किसी महीने की 15 तारीख को हुआ हो तो आपका मूलांक 1+5=6 होगा। यदि जन्म 27 तारीख को हुआ हो तो मूलांक 2+7=9 होगा।

इन उपायों से जीवन को सफल बना सकते हैं मूलांक 1 के जातक,

मूलांक एक के स्वामी सूर्य देव माने जाते हैं। ऐसे में जीवन को सफल बनाने के लिए इन जातकों को प्रतिदिन लाल वस्त्र पहनकर उगते सूर्य को जल दें और आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें। इससे उनका प्रत्येक कार्य बिना किसा बाधा के पूरा होता है।

 

पिता एवं गुरूओं का आदर करें और नियमित इनसे आशीर्वाद प्राप्त करें।
लाल गाय को गुड और गेहूं के आटे से बनी पूरी खिलाएं।

 

मूलांक 1 – सूर्य यंत्र  सूर्य ग्रह से आशीर्वाद उन लोगों के लिए जिनका जन्म महीने की 1, 10, 19 और 28 तारीख को हुआ है।

 

यह यंत्र सूर्य ग्रह की कृपा प्राप्त करने में मदद करती है।

 

आध्यात्मिक रूप से यह साहस देता है, सकारात्मक जीवन विकल्पों को बढ़ावा देता है और सफलता को प्रेरित करता है। यह मनुष्य और परमात्मा के बीच संबंध को मजबूत करने में मदद करता है।

घर में उत्तर दिशा की ओर सूर्य यंत्र की स्थापना करने से व्यक्ति को हर क्षेत्र में सफलता मिलती है।

 

सूर्य यंत्र की प्रतिष्ठा कर इसे धारण भी किया जा सकता है जिससे व्यक्तित्व में तेज उत्पन्न होता है।

 

सूर्य ग्रहों के स्वामी हैं, ऐसे में सूर्य यंत्र घर में स्थापित करने से नव ग्रह दोष कुंडली में नहीं सताता है।

 

उत्तर या फिर ईशान कोण में अगर घर का मंदिर है तो सूर्य यंत्र की स्थापना से आपदाएं नष्ट हो जाती हैं।

 

नौकरी या व्यापार के स्थान पर भी सूर्य यंत्र स्थापित कर सकते हैं। इससे शुभ परिणाम मिलने लगते हैं।

 

नौकरी या व्यापार की जगह पर सूर्य यंत्र तभी लगाएं जब आप उस स्थान की शुद्धता बनाए रख सकें।

 

घर की पूर्व दिशा में सूर्य यंत्र स्थापित करने से समाज में प्रतिष्ठा बढ़ती है और मान-सम्मान प्राप्त होता है।

 

घर के मंदिर या घर की पूर्व दिशा में लगा सूर्य यंत्र धन, ऐश्वर्य और वैभवशाली जीवन का कारक बनता है।

अपनी जन्मतिथि (Date Of Birth) के आधार पर अपने व्यवसाय के लिए सही नाम खोजें।

 

समझें कि आपकी जन्मतिथि में प्रत्येक संख्या विशिष्ट ऊर्जा और कंपन से कैसे मेल खाती है, जो आपके व्यवसाय की सफलता और समृद्धि को प्रभावित करती है।

 

जीवन में राजयोग है नहीं और अगर अपनी किस्मत बदलनी है तो क्या करें या आप राजयोग कैसे पढ़ें ये जानना चाहते हैं तो आज ही संपर्क करें।

 

किस्मत बदलनी है मेहनत के साथ-साथ कुछ खास चीजें भी राजयोग एक्टिवेट करने में आपकी सहायता करेगी तब आप कह सकते हैं कि अगर अपनी किस्मत बदलनी है तो क्या करें इसका जवाब भी मिलेगा

 

इसके साथ-साथ आप जान पाएंगे कि अपनी वैदिक अंक शास्त्रीय कुंडली कैसे बनाएं और कैसे देखें कि आपकी किस्मत में क्या राजयोग है या नहीं।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *